जेबरा का एक डॉन्की के साथ था अफेयर और एक जॉन्की को दिया जन्म, देखें Viral Photo

अटपटी खबरें

जेबरा स्थानीय महिला के मवेशियों के झुंड में रहने लगा और उसे ही अपना घर समझने लगा. यह स्थिति कई हफ्तों तक जारी रही और फिर एक लोकल मीडिया द्वारा इस कहानी को प्रकाशित किया गया

Often times The That is the reason why he should have the ability to produce a style that write me a research paper could be appropriate for his composition.

period of your research paper depends on the subject of your research document. we view things in such a way that we don’t realize we have taken the exact same path, but once we see a problem in a fresh way, occasionally it makes a whole lot more sense.

नई दिल्लीः 10 अप्रैल 2020 : कुदरत के कुछ करिश्में ऐसे होते हैं जिनके बारे में आप कभी नहीं समझ पाते. हालांकि, कई बार यह लोगों को काफी पसंद आते हैं. साथ ही जंगलों में रहने वाले जानवरों के बारे में अभी तक भी ऐसी बहुत सी चीजें हैं जिनके बारे में लोग अच्छी तरह से जान नहीं पाए हैं. दरअसल, हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि सोशल मीडिया पर एक जेबरा और उसके बच्चे की तस्वीर वायरल हो रही है. हालांकि, इस तस्वीर की खास बात यह है कि जेबरा के बच्चे के केवल पैरों पर ही स्ट्राइप्स हैं कुदरत के कुछ करिश्में ऐसे होते हैं जिनके बारे में आप कभी नहीं समझ पाते. हालांकि, कई बार यह लोगों को काफी पसंद आते हैं. साथ ही जंगलों में रहने वाले जानवरों के बारे में अभी तक भी ऐसी बहुत सी चीजें हैं जिनके बारे में लोग अच्छी तरह से जान नहीं पाए हैं. दरअसल, हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि सोशल मीडिया पर एक जेबरा और उसके बच्चे की तस्वीर वायरल हो रही है. हालांकि, इस तस्वीर की खास बात यह है कि जेबरा के बच्चे के केवल पैरों पर ही स्ट्राइप्स हैं

दरअसल, इन तस्वीरों को पूर्वी अफ्रीका के केन्या में स्थित शेल्ड्रिक वाइल्डलाइफ ट्रस्ट ने अपने फेसबुक पेज पर शेयर किया है. इस तस्वीर को शेयर करते हुए उन्होंने लिखा कि यह एक जॉन्की यानी कि जेबरा और डॉन्‍की की हायब्रिड है. इस पूरी घटना के बारे में जानकारी देते हुए ट्रस्ट ने लिखा, पिछले साल मई में Tsavo मोबाइल वेटनरी यूनिट को केडब्‍ल्‍यूएस कम्युनिटी वॉडर्न से फोन आया था. वहां से एक जेबरा Tsavo National Park से कम्युनिटी बोर्डिंग पार्क में चला गया था. 

ट्रस्‍ट ने आगे कहा, “यहां पर, जेबरा स्थानीय महिला के मवेशियों के झुंड में रहने लगा और इसे ही अपना घर समझने लगा. यह स्थिति कई हफ्तों तक जारी रही और फिर एक लोकल मीडिया द्वारा इस कहानी को प्रकाशित किया गया. इसके बाद हमारी टीम ने जेबरा को संरक्षित क्षेत्र में पहुंचाया. हालांकि, तब तक जेबरा उसे ही अपना घर समझने लगा था और इस वजह से हमने इस बात को ध्यान में रखते हुए जेबरा के लिए एक सुरक्षित स्थान ढूंढा”

उन्‍होंने कहा, “हमने उसे च्यूलू नेशनल पार्क के केन्जे एंटी पोचिंग टीम बेस में भेज दिया. इसके बाद जेबरा यहां रहने लगा. इसके बाद इस साल टीम ने जेबरा को एक बच्चे के साथ देखा. सामान्य तौर पर जेबरा के बच्चे जब जन्म लेते हैं तो उनके शरीर पर ब्राउन और सफेद रंग के स्ट्रीप होते हैं, जो वक्त के साथ काले हो जाते हैं. हालांकि, इस बच्चे के पैरों पर ही स्ट्रीप्स थे और उसका रंग भी जेबरा जैसा नहीं था.”

शुरुआत में टीम के लोगों को लगा कि जेबरा का बच्चा मिट्टी में खेल रहा है और इस वजह से उसके ऊपर मिट्टी लगी हुई होगी लेकिन बाद में उन्हें महसूस हुआ कि यह एक जॉन्‍की है. ये जॉन्‍की जेबरा और डॉन्की का हायब्रिड है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *