विशेषज्ञों के हिसाब से लॉकडाउन को खोलने का सही तरीका जाने

देश
  • प्रधानमंत्री मोदी ने बोला लॉकडाउन खुलने की प्रक्रिया चरणबद्ध तरीके से होनी चाहिए।
  • एक्सपर्ट के हिसाब से राज्य सरकारों को नए मॉडल की जरुरत।

नई दिल्ली अप्रैल 06, 2020: सरकारी तंत्र को 21 दिन का लॉकडाउन करना जितना कठिन था उससे भी ज्यादा कठिन लॉकडाउन को खोलना है। देश के 73 साल के इतिहास में पहली बार  हो रहा है जब देश में पहली बार राष्ट्रीय व अंतरराष्टीय उड़ानो को रोका गया है। बस,ट्रेन सभी प्रकार के यातायात ठप्प हैं।
कोरोना वायरस को लेकर विश्व भर में खौफ एवं चिंता का माहौल है वहीं केंद्र सरकार देश के 130 करोड़ आबादी को संक्रमण से बचाने के लिए युद्द स्तर पर कार्य करने में लगी है, लॉकडाउन को खत्म करने से पहले स्थिति का जायजा सभी राज्य सरकारो से मांगा है। केंद्र सरकार का कहना है कि देश के एक दिन पहले कि स्थिति कि समीक्षा कि जाएगी जिसके बाद से यह तय किया जाएगा की जनजीवन को कैसे पटरी पे लाना है।
लेकिन देखने लायक बात यह भी है कि सरकार इस चुनौती से कैसे निपटती है कि लोगों को बिना संक्रमण बाहर लाया जाए और अर्थव्यवस्था के पहिये को भी चलाया जाए।

विशेषज्ञों का क्या मानना है?

विशेषज्ञों कि माने तो लॉकडाउन के खत्म होने के बाद से विमानों का संचालन एकदम से बहाल नहीं होना चाहिए,उड्डयन मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के हिसाब से सरकार को उड़ानों का संचालन चरणबद्ध तरीके से धीरे-धीरे शुरु करने कि  इजाजत देनी  चाहीए।
वैसे एयरलाइंस को 14 अप्रेल के बाद से बुकिंग करने कि छूट है। हॉलांकी अगर लॉकडाउन 14 के बाद भी जारी रहा तो टिकट कैंसिल करने पड़ सकते हैं।

क्या-क्या बहाल हो सकता है?

  • विशेषज्ञों कि माने तो सबसे पहले डेयरी,दूग्ध उत्पादन, फूड़ प्रोसेसिंग शुरु हो सकती हैं।
  • बड़े उद्योगों को पटरी पे लाने के लिए मजदूरो कि नियमित संख्या कर शुरुआत करनी चाहिए।
  • ई-कॉमर्स को पूरी तरह बहाल करना चाहिए जिससे आनलाईन बाजार पटरी पे आ सके। 

व्यापार मंड़ल थोक एवं खुदरा बाजार: मार्केट नियंत्रित तरीके से खोले जाए

  • विशेषज्ञों के अनुसार उन बाजारो को नियंत्रित्र तरीको से खोला जा सकता है, जहॉ कोरोना के केस सामने नहीं आया हैं।
  • मार्केट को सिर्फ 6 से 8 धंटे खोलने का आदेश हो सकता है।
  • दुकानदार ग्राहको से सोशल ड़िस्टेंसिंग पालन करवाये।

इन गतीविधियों पर रहनी चाहिए 100% प्रतिबंध

  • भारत में जिस प्रकार से संक्रमण कुछ दिनों में तेजी से फैला है उस हिसाब से अंतरराष्ट्रीय  उड़ानो पर पाबंदी रहनी चाहिए। क्यो कि चीन ने जैसे ही अंतरराष्ट्रीय  उड़ानो  को  शूरु किया 15,00 नए मामले सामने आ गए।
  • सिनेमाहॉलों पर पूर्ण रुप से पाबंदी रहनी चाहीए।
  • शादी व धार्मीक आयोजनों पर पूर्ण रुप से पाबंदी रहनी चाहीए।
  • शिक्षा संस्थानो को 2 महीने और बंद रखना उचित रहेगा।
  • जलसे, राजनीतिक जमावड़े, समारोह  व संम्मेलनों पर अनुमति न दी जाए। 

कोरोना से देश में अबतक मरिजों कि संख्या

कोरोना से अब तक देश में 4 हजार 405 मामले सामने आ चुके हैं, जिसके बाद से केंद्र के  सभी  मंत्रियों और सांसदों ने एक साल तक अपने वेतन से 30% हिस्सा नहीं  लेने का फैसला किया है।महामहिम राष्ट्रपति जी, उप राष्ट्रपति और राज्यपालों नें  अपने वेतन से 30% कटौती कि मांग कि है।


 ICMR को दो दिन में 7 लाख रैपिड़ एंटीबॉड़ी टेस्टिंग किट मिलने वाली हैं।

कोरोना महामारी का संक्रमण को पता लगाने के लिए इंडियन काउंसिल ऑफ मेड़िकल रिसर्च संस्था को लगभग 8 तारीख तक विदेश से एंटीबॉड़ी टेस्टिंग किट मिल जाएंगी जिसके बाद से अनुमान लगाया जा रहा है कि यह टेस्टिंग किट को उन सभी प्रदेशो में इस्तेमाल किया जाएगा जहॉ से संक्रमण कि खबरें ज्यादा आ रहीं हैं। उम्मीद जचाई जा रही है कि पहले फेज में 5 लाख किट देश में आ जाएंगी, इस किट से एक बूंद  से  5 से 10 मिनट के अंदर कोरोना  के संक्रमण को पता लगाया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *