भारतीय बाजारों में गिरावट जारी; निफ्टी 1.60% नीचे; सेंसेक्स 552 अंक फिसला

बिज़नेस

श्री अमर देव सिंह, हेड एडवायजरी, एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड

नई दिल्लीः 16 जून 2020 : भारतीय शेयर बाजारों को आज बड़ा नुकसान हुआ क्योंकि भारतीय अर्थव्यवस्था पर कोविड-19 की पकड़ मजबूत हो गई है। एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स 1.63% या 552.09 अंक की गिरावट के साथ 33,228.80 पर बंद हुआ। वहीं, निफ्टी 1.60% या 159.20 अंक गिरकर 9813.70 अंक पर बंद हुआ।
आज के सत्र में गेल (3.68%), विप्रो (2.60%), एचसीएल टेक्नोलॉजी (1.49%), रिलायंस इंडस्ट्रीज (1.48%), और सन फार्मा (0.84%) टॉप मार्केट गेनर रहे।
दूसरी ओर, इंडसइंड बैंक (7.20%), एक्सिस बैंक (4.49%), टाटा मोटर्स (4.42%), बजाज फाइनेंस (3.93%), और एनटीपीसी (3.72%) टॉप लूजर्स थे।
फाइजर:
फाइजर्स का क्यू4 मुनाफा 5.9% घटकर 103 करोड़ रुपए रहा। कंपनी के राजस्व में भी 6.3% की गिरावट देखी गई। हालांकि, कंपनी के शेयर में 1.35% की वृद्धि देखी गई।
टाटा मोटर्स
कंपनी के कमजोर प्रदर्शन के कारण आज के कारोबारी सत्र में टाटा मोटर्स के शेयरों में 4.42% की गिरावट आई और 100.65 रुपये पर बंद हुआ। सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी का प्रदर्शन कोविड-19 की वजह से लागू लॉकडाउन के कारण और खराब होने की आशंका है।
डॉ. रेड्डीज लैब
डॉ. रेड्डीज लैब्स के शेयर की कीमत बीएसई पर हरे रंग में मामूली बढ़त के साथ 4007.65 रुपए पर बंद हुई। कंपनी ने गिलियड साइंसेस के साथ नॉन-एक्सक्लूसिव लाइसेंसिंग समझौता किया है और इसकी घोषणा के बाद ही शेयर की कीमत बढ़ी है।
आरआईएल
टीपीजी और एल कैटरटन रिलायंस इंडस्ट्रीज में जियो प्लेटफार्मों पर 6000 करोड़ का निवेश करने वाले हैं। परिणामस्वरूप, कंपनी के शेयर की कीमत में 1.48% की वृद्धि हुई और इसने 1612.30 रुपए प्रति शेयर मूल्य पर कारोबार किया। कंपनी के आंशिक भुगतान वाले शेयर 685 की लिस्टिंग के बजाय 700 रुपए पर बंद हुए।
मेघमणि ऑर्गेनिक्स
कंपनी का क्यू4 शुद्ध लाभ 26% घटकर 7 करोड़ रुपए रहा, जबकि राजस्व 6.7% घटा। कंपनी का शेयर मूल्य 2.32% नीचे चला गया और उसने 50.50 रुपये पर कारोबार किया।
सोना
आज के सत्र में भी सोने की कीमतों में गिरावट जारी रही। कोरोनोवायरस संक्रमणों की दूसरी लहर के बावजूद डॉलर एक सप्ताह से अधिक समय तक उच्च स्तर पर बना हुआ है जो अभी भी निवेशकों के जोखिम लेने की क्षमता को प्रभावित करता है।
भारतीय रुपया
भारतीय सूचकांकों में कमजोर सेंटीमेंट्स के कारण भारतीय मुद्रा को नुकसान हुआ। भारतीय रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 76.03 पर बंद हुआ जो अप्रैल 2020 के बाद से भारतीय रुपये के लिए सबसे निचला स्तर है।
कोविड-19 की बढ़ती चिंताओं की वजह से ग्लोबल मार्केट्स गिरे
कोरोनोवायरस महामारी पर बढ़ती चिंताओं के बीच आज के सत्र में यूरोपीय बाजारों में भारी गिरावट देखी गई। कोविड-19 पर बढ़ती चिंताओं के बावजूद अमेरिकी अर्थव्यवस्था ने लॉकडाउन को शिथिल कर दिया। एफटीएसई 100 में 1.18% की गिरावट, एफटीएसई एमआईबी में 0.90%, निक्केई 225 में 3.47% की गिरावट आई और हैंग सेंग में 2.16% की गिरावट आई। हालांकि, नैस्डैक ने 1.01% की बढ़त के साथ हरे रंग में कारोबार किया

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *