हरमनप्रीत के नेतृत्व वाली टीम में विश्व कप जीतने का दम : झूलन

खेल

कोलकाता/एजेंसी। भारतीय महिला टीम की पूर्व कप्तान झूलन गोस्वामी ने कहा है कि हरमनप्रीत कौर की कप्तानी वाली टीम में पहला टी-20 विश्व कप जीतने का दमखम है। भारत ने पहली बार टी-20 विश्व कप के फाइनल में जगह बनाई है। सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर गुरुवार को होने वाले पहले सेमीफाइनल मैच के बारिश के कारण रद्द होने कारण भारत को फाइनल में प्रवेश किया।

झूलन ने पत्रकारों से कहा, “यह अच्छी खबर है, उन्होंने अभी तक विश्व कप तक अपना वर्चस्व दिखाया है और ग्रुप में शीर्ष पर रहते हुए सेमीफाइनल में प्रवेश किया था। सेमीफाइनल रद्द हो गया लेकिन यह खेल का हिस्सा है।”

इस विश्व कप में सेमीफाइनल के लिए रिजर्व डे का प्रावधान नहीं रखा गया था और इसलिए भारत को ग्रुप चरण का अंत पहले स्थान पर करने के कारण फाइनल में जगह मिली जबकि इंग्लैंड को मायूस होना पड़ा।

झूलन ने कहा है कि अब जबकि टीम फाइनल में पहुंच चुकी है तो टीम के लिए सबसे बड़ा काम दबाव में न आकर अपनी निडर क्रिकेट खेलना है।

उन्होंने कहा, “दबाव वहां होगा। विश्व कप का फाइनल बड़ा स्टेज है। दबाव के साथ तालमेल बिठाना अहम बात है। उन्होंने अभी तक निडर क्रिकेट खेली है और मुझे उम्मीद है कि वह फाइनल में भी ऐसा कर पाएंगी और विश्व कप जीतेंगी।”

35 साल की झूलन ने कहा कि फाइनल में पहुंचना ही एक बड़ी उपलब्धि है और बिना डरे क्रिकेट खेलना टीम को ट्रॉफी दिला सकता है।

उन्होंने कहा, “फाइनल में वो भी इस तरह, बड़ी उलब्धि है। उन्हें इसी तरह की निडर क्रिकेट खेलनी जारी रखनी चाहिए।”

झूलन ने साथ ही कहा कि रविवार को मेलबर्न में होने वाला फाइनल मैच महिला क्रिकेट के लिए एक अच्छा विज्ञापन होगा।

उन्होंने कहा, “फाइनल मेलबर्न में होना है और यह बड़ा मैच होगा। मुझे फुल हाउस की उम्मीद है। यह पूरे विश्व में महिला क्रिकेट के लिए बड़ा विज्ञापन होगा। इससे भारतीय क्रिकेट भी आगे बढ़ेगी।”

यदि ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका का आज ही होने वाला सेमीफाइनल भी रद्द हो जाता है तो ग्रुप चरण में बेहतर रिकॉर्ड के कारण दक्षिण अफ्रीका की टीम फाइनल में पहुंच जायेगी और उसका भारत के साथ मुकाबला होगा।

सिडनी में मंगलवार को पाकिस्तान और थाईलैंड तथा वेस्ट इंडीज और दक्षिण अफ्रीका के आखिरी ग्रुप मैच बारिश से प्रभावित रहे थे और इनमें कोई परिणाम नहीं निकला था। पाकिस्तान और थाईलैंड मैच में सिर्फ थाईलैंड की पारी पूरी हुई थी जबकि वेस्ट इंडीज और दक्षिण अफ्रीका के मैच में टॉस भी नहीं हो पाया था और मैच बिना कोई गेंद फेंके रद्द हो गया था। उसी समय यह आशंका उत्पन्न हो गयी थी कि सेमीफाइनल का भी यही हाल होगा। आईसीसी को सेमीफाइनल के लिए कोई रिज़र्व डे नहीं रखने के कारण कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ेगा।


सुबह से हो रही भारी बारिश के कारण इंग्लैंड का खेमा लगातार निराशा में डूबता जा रहा था। उसकी खिलाड़ियों की नजरें आसमान पर जमी हुई थीं कि मौसम साफ़ हो और मैच की कुछ संभावना बन सके। लेकिन समय गुजरने के साथ उसकी खिलाड़ियों के चेहरे लटकते चले गए और मैच रद्द होने की घोषणा होते ही इंग्लिश खिलाड़ियों ने हताशा में अपना सिर थाम लिया।

दूसरी तरफ भारतीय खिलाड़ियों के लिए यह ख़ुशी का मौका था। उनकी ग्रुप चरण की मेहनत रंग लायी। अपने पहले ही मैच में चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को हराना आसान काम नहीं था लेकिन भारतीय टीम ने यह कारनामा किया और लगातार शानदार प्रदर्शन करते हुए ग्रुप चरण में शत-प्रतिशत रिकॉर्ड बरकरार रखा।

बारिश थम नहीं रही थी और टॉस के काट ऑफ समय से 20 मिनट पहले भारतीय कप्तान हरमनप्रीत कौर और इंग्लैंड की कप्तान हीथर नाईट ने हाथ मिला लिया। सेमीफाइनल के लिए रिज़र्व डे न होने पर आईसीसी के प्रवक्ता ने कहा कि टी-20 विश्व कप ( पुरुष और महिला) छोटा प्रारूप है इसलिए सेमीफाइनल में रिज़र्व डे नहीं रखा गया क्योंकि इससे टूर्नामेंट लम्बा हो जाता। रिज़र्व डे केवल फाइनल के लिए रखा गए। खेल की शर्तों के बारे में सब टीमों को पता था और सभी टीमों ने शर्तों पर टूर्नामेंट शुरू होने से पहले हस्ताक्षर किये थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *